3/26/2011

अ poem

I lie
Just below the tombstone
Of ignorance
With hands
Cuddling a lamp.

It was the night
Before my coming
That I visited
The past of intolerance
Sitting quietly
Amongst graves
Freshly dug.

The future
Walks with hoe
On his bent shoulders
Leaving a rose bud
On my tombstone.


25/3/2011

3/19/2011

तुम्हारे बुने स्वेटर के
उधड़ गये हैं
कुछ फंदे
और अभी बीता नहीं है
महीना भर
तुम्हें गये
बीतेंगी कैसे
यह सर्दियां
मां?

19/3/2011

3/07/2011

न्यू बुक

See my new book of poems " अतीत से छूटते हुए" on pothi.com

9/10/2010

When the sun goes down
Beyond the shrubs and
Beyond the high tension lines
I leave my absence behind
In the verahandah.
Sitting
On my easy chair
Enjoying the sunset.

3/09/2010

mahila divas

लड़्की जो
फ़ुदक रही है, नुक्कड़ पर
बस के इंतज़ार में
जमीन पर रखे बस्ते के पास
कमर पर दोनों हाथ रखे
भाई के साथ,
खड़ी होगी
किसी और शहर में
किसी और समय
किसी और नुक्कड़ पर
पति को टिफ़िन दे
सबेरे-सबेरे
दफ़्तर रवाना कर
बच्चों की बस के इंतज़ार में
किसी और नुक्कड़ के मकान की ग्रहणी
से बतयाती
जैसे कर रही है उसकी मां
बच्चों को बिठा कर
बस में,
चोंक कर भागती
घर की ओर
कि आ गई होगी
बाई काम वाली
कि आती होगी जमादारनी,
धोबिन,
नहाना धोना बाकी है
पूजा पाठ
घर की साफ़-सफ़ाई

इस सब से अनजान कि
पार्लियामेंट में हो चुकी है
जूतम-पजार
उसे ले कर
उन रोटियों को ले कर
सिंकती नही जो कम से कम
उसके तवे पर
बच्ची कूद रही है
एक टांग पर
अपने पूरे बचपने को ओढ़
सड़क पर
बस के आने के इंतजार में

९/३/२०१०

8/26/2008

America

America
1
Apprehensions wait
in serpentine ques
at emigration counters,
Memories walk past
unchecked
without fingers being scanned,
face digitized
and sent to archives.


A woman in mid thirties,
with mother and a kid in tow
bursts in muffled sobs
of suppressed emotions
tears welling in her eyes
covered with hands
face averted from surging crowds,
a coiled serpent
uncoiling.
Her child
barely nine
tugs at the hem of her skirt.
The serpent moves ahead.
a rib forward
at a time.

Mind has depth
one can fathom
not by binary codes
but by emotions,
pure and simple.
Tears in child's eyes
smoothened by mother's palm
and a puff of even her stale breath
brings
smile on child's face



2

They wait......
emotions on the other side
and
apprehensions at this side
of emigration counter.
Serpentine ques this end.
Anxieties crowded at customs exit,
catching glimpses
through swinging half-opened
automated doors
No one can seen the future
not even through
these flipping doors.

Memories are cruel
to the last core and
vengeful.
They catch you unawares
when you least expect them to.

Weak from exhaustion,
of waiting
mother and son,
Brothers
wait at two ends of
whatever is left of
civilization.

The voids of the lost ones
trapped behind borders
and guarded by gun trotters,
not filled even by zeros and ones
is a black hole,
A silence that weeps with rage.
If silence could speak
even with language of deaf and dumb
with gestures of hands,
that refuse to hold guns
for one can not talk
without hands
freed from trigger.


3

I look
at the head behind the counter
not really the face
not even the head
but look for a hint of
a mere nod.
A nod was manning the immigration counter...
...Right hand fingers on scanner
nod
'right thumb'
nod
'left hand fingers'
nod
'left thumb'
nod.
'look straight in-to camera,'
'remove spec's'
'OK',
a faint smile,
a stroke on the keyboard
and lo
I enter America
before I actually cross the barrier.
my face, grim,with spects removed
helpless,
without my myopic vision,
digitized in zeros and ones.
leading one another,
holding index fingers
rush down the data highways
of optical fibers
in colors of the rainbow.


4

I see my being reduced to an icon,
my face
representing the whole of me,
digitized at the counter
being chopped on a kitchen chopping board
with a knife
sharp enough to cut through
anybody's soul,
into binaries
compressed to manageable format
both eyes in one pigeon-hole
ears in another
nose,
lips
'-that incidentally had a crooked smile,'
in another,
the distance between the eyes measured
and ridges on my fingers
classified and tagged
with suitable digital flag pinned to me
I see myself sent to the digital mortuary
and stored in extractable drawer
as cold and as impersonal as should be
in any morgue.

I lie there now
in that digital morgue
profiled
religious,cultural,political,social
and personal
added bit by bit like a jig-saw puzzle
of infinite corners.


5


The hands that picked up
my baggage wearily
were not mine
The mind that made me pick up
my past memories
was contaminated
with humiliation.
Legs burdened by existence
of ever diminishing returns
I walk past the doors,
swinging open on my approach
the nod was invisible
to my myopic eyes
I arrive in America
straight in to the lap of emotions.


6



Her love steams from
a pot of cooking rice
for her McDonalded son,
fingers impatiently throbbing
to put mustard oil in his hair,
putting behind
twenty two hours of cramped
economy class travel,
jet lag,
and her past
separated by 17000 km and two oceans.
Her eyes moisten
seeing his receding hairline




7

I arrive at the digital gate
Shoving plastic cards everywhere
up the nose of card readers
enter
a society of digitised emotions
divided along card lines
and credit ratings,
a society of surveillance cameras
without a soul
on side-walks.
Digital gates open
and close
I lie in the morgue
cold and impersonal
on a silicon chip
deep down under layers of
data highways
ashes interned,
behind high security vaults
of home-land security.
The phoenix is now past the exit.

11/26/2007

ek subah utha jab

एक सुबह उठा जब
छाई हुई थी अजब सी खुमारी सारे बदन में
एक उबकाई सी आ रही थी
और उलटी की आशंका में
स्वत: स्फूर्त निकला थूक
भर रहा था मुँह में
समझ गया मैं कि
तमाम दाईओं से आँख बचाते पाल रहा था जिसे पेट में
पिछले साठ सालों से
नहीं रुक सकेगा अब और
ले कर ही मानेगा जन्म, अब ।

पुरानी बात है,
उस समय के सेपियाए चित्रों में
दिखाई दें शायद, आपको भी
गांधी टोपी और बटन-होल-लाल-गुलाब के साथ नेहरु
कभी भाखड़ा नंगल की रखते, आधारशिला,
कभी समर्पित करते,
बटन दबा कर भाखड़ा नंगल से छोड़ते,
नहर में पानी।
उस समय तक ऐलान हो चुका था
कि होंगे वही नये मंदिर, रिसर्जेंट इंडिया के ।

उसी समय की बात है
गंगा किनारे, दारागंज में,
एक तंग कमरे में,
चूल्हे की राख में की गई गर्म ईंट,
कपड़े में लपेट, अपने पेट पर बांध,
उम्र और कद में भाखड़ा नंगल से बड़ा,
एक कद्दावर शख़्स, नंगे बदन
तहमत बांधे, कुछ बुदबुदाते ओंठों से,
हो रहा था अपनी जराग्नि से, रु-ब-रु
कि दो पलक झपक लें कांत आँखें
हो गईं थीं जो क्लांत ।
वो कवि था, महाकवि था
पर नहीं था वो मंदिर,
रिसर्जेंट इंडिया का
हालांकि मालूम थी उसे,
वहां से आनंद भवन तक की दूरी
अंतहीन थी जो, उल्टी दिशा में ।

दूरी तो वो भी काफ़ी थी
राजनांदगाँव से दिल्ली तक
जीते जी तय कर पाना शायद संभव न था
खंडहरों के बीच से/
खंडहर होते शरीर से/
जिसमें आत्मा और आत्मा के सिवाय कुछ भी नहीं था,
परमात्मा भी नहीं ।
बीड़ी के धुएं सी कसैली रोशनी
भीतरी अंधेरों को रोशन करती
आह थी वह
और भाखड़ा नंगल से रिशता, उसका,
उतना ही था
जितना जुड़ा रहना था, उसका,
उसी जमीन से ।
वह भी कवि था, उतना ही
जितना,
गर्जन करता/ उफनता/ फुफकारता/
बाँध से छूट,
गिरता पानी ।

बचपन से बाहर होते, मुझ
और मुझसे बाहर होते सपने,
घुमड़ते बादल, रिमझिम बारिश, सर्द शाम और
पत्तों पर ओस की बूँद
धीमें से कहने लगे कुछ-कुछ, जब,
आने लगे आँखों के सामने
आंगन में चकहते
छोटे भाई बहन,
पहने,
रिश्तेदारों के बच्चों की उतरन ।
बाहर, राशन की लाईनें,
माँ-बाप के सपने,
मास्टर बाप की मज़बूरियाँ
और
महसूस होना
एक तुकान्त कविता में जकड़े जाना/
जकड़ते चले जाना ।
पता चल जाना,
काज़ की सी ज़िंदगी में
गुंजाइश नहीं है कवि की
रख दिया था उसी क्षण भीतर
संवेदनाओं के न्यूनतम तापमान पर
डीप-फ़्रीज़ में, भ्रूण
और भर दिया था, अंतराल
नून-तेल-लकड़ी से ।
लगता है
जिजीविषा, अजन्मे कवि की
मार रही है अब/ पेट में/ लातें ।